Kantara के बाद कन्नड़ फिल्म ‘Banaras’ की थिएटर्स में एंट्री, काशी नगरी की खूबसूरती को दर्शाती है Love Story


कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री की ‘कांतारा’ फिल्म इन दिनों बॉक्स ऑफिस पर धुआंधार कमाई कर रही है. इसके आगे हिंदी बेल्ट की कोई भी फिल्म टिक नहीं पा रही हैं. 16 करोड़ के बजट से बनी इस फिल्म ने अब तक 300 करोड़ कमा लिए हैं, इसके अकेले हिंदी वर्जन ने 50 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. इसी बीच खबर है कि अब सैंडलवुड की एक और फिल्म रिलीज हो चुकी है. जी हां. पैन इंडिया फिल्म ‘बनारस’ (Banaras Movie) शुक्रवार यानी आज 4 नवंबर को पूरे देश में सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी है और ये भी कन्नड़ सिनेमा की है. ‘बनारस’ फिल्म के प्रोमो ने खूब सराहना बटोरी है और उम्मीद है कि ये भी उत्तर के दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर देगी.

कन्नड़ निर्देशक ने बनारस को बताया उत्तर भारतीयों का गौरव
निर्देशक जयतीर्थ (Director Jayatheertha) ने हाल ही में IANS से एक इंटरव्यू के दौरान दक्षिण भारतीय दर्शकों के लिए फिल्म की यूएसपी के बारे में जानकारी दी है. उन्होंने कहा, ‘मैं बनारस और वहां के अनुभव को महसूस करता हूं. फिल्म के सिनेमाघरों में आने के बाद मुझे पूरा यकीन है कि आप अपने परिवार के साथ बनारस शहर जरूर जाएंगे.’ आगे निर्देशक कहते हैं, ‘जब उत्तर भारतीय दर्शकों की बात आती है, तो मैं कहूंगा, बनारस आपका गौरव है. हमने इसे एक दिव्य और काव्यात्मक तरीके से दिखाया है जिसे अब तक किसी ने भी चित्रित नहीं किया है, इसलिए आप भी इसे देखें और अनुभव करें.’

न्यूकमर जैद खान हैं ‘बनारस’ के हीरो
डायरेक्टर कहते हैं, ‘इस बात को लेकर मैं काफी एक्साइटेड हूं कि मैंने एक पैन इंडिया फिल्म बनाई है. लेकिन डर ये है कई फिल्मों में अभिनय के बाद केजीएफ के जरिए यश एक पैन इंडिया स्टार बन गए. वहीं ऋषभ शेट्टी एक निर्देशक, अभिनेता और तकनीशियन रहे हैं और अब उन्होंने कांतारा के साथ सफलता हासिल की. जबकि मेरी फिल्म बनारस के हीरो ज़ैद खान (Zaid Khan) सिनेमा की एक न्यूकमर हैं.’

‘Banaras’ से बयां किया काशीनगरी का अनुभव
बकौल जयतीर्थ, ‘बनारस केवल टाइटल में नहीं है, मैंने स्क्रीन पर जीवंतता (vibrancy) दिखाई है. मैं स्क्रीन पर उस कंपन को लेकर आया हूं जो मैंने बनारस में व्यक्तिगत रूप से महसूस किया था जब मैं एक दक्षिण भारतीय के रूप में वहां गया था. वहां का भारत माता मंदिर, गंगा घाट, वाद्य यंत्र बजाना, नदी की ध्वनि जिसने मुझमें कंपन पैदा किया, वो दर्शकों में भी वही अनुभव पैदा करने वाली है. इसलिए उसी नाम पर इसका शीर्षक रखा गया है.’

‘बनारस’ के निर्देशक को है इस बात का डर
जयतीर्थ ने आगे कहा कि ‘बेंगलुरू को केरल या तमिलनाडु के एक निर्देशक द्वारा देशी निर्देशक की तुलना में अधिक खूबसूरती से दिखाया गया है. अगर बनारस के मूल निवासी फिल्म देखते हैं, तो उन्हें आश्चर्य होगा कि उनका बनारस कितना सुंदर है. फिल्म में एक काव्यात्मक प्रस्तुति है और हर फ्रेम में काशी नगरी का चित्रण काव्यात्मक और दिव्य है. मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि रॉकिंग स्टार यश, ऋषभ शेट्टी, जिन्होंने अखिल भारतीय सफलता हासिल की है जो मुझसे जुड़े हुए हैं. मैंने यश को उनकी डेब्यू फिल्म ‘मोगिना मनसु’ (Moggina Manasu) से पहले तैयार किया था. मैं मूल रूप से एक एक्टिंग टीचर हूं और और यश अधिक ऊंचाइयों पर हैं.’ आगे निर्देशक जयतीर्थ कांतारा स्टार के बारे में कहते हैं, ‘मैंने ऋषभ शेट्टी को भी सुपरहिट बेल बॉटम (कन्नड़ भाषा) फिल्म में एक हीरो बनाया.’

20 से 30 करोड़ है ‘Banaras’ का बजट
जयतीर्थ की बनारस फिल्म 4 नवंबर यानी आज कन्नड़, हिंदी, तमिल, तेलुगु और मलयालम भाषाओं में रिलीज हो चुकी है. ज़ैद खान और सोनल मोंटेरो मुख्य भूमिकाओं में हैं. रोमांटिक फिल्म को हिंदू तीर्थ शहरों बनारस और काशी में बड़े पैमाने पर शूट किया गया है. इसे 20 से 30 करोड़ की लागत से तैयार किया गया है. अब देखना ये होगा कि ये फिल्म कितना कलेक्शन कर पाती है.

Tags: Kannada film industry, South indian actor, South Indian Films, South Indian Movies, Trending



Source link

Related posts

Leave a Comment