सुष्मिता सेन की चुप्पी पर भाभी चारू असोपा बोलीं- ‘दीदी ने रिश्ते सुधारने के लिए कभी नहीं कहा’


मुंबई. चारू असोपा और राजीव सेन पिछले कुछ दिनों से फिर से चर्चा में हैं. दोनों बहुत जल्द तलाक लेने वाले हैं. दोनों की घर की लड़ाई पूरी तरह से सार्वजनिक होती जा रही है. दोनों सोशल मीडिया और इंटरव्यू के जरिए एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं. कुछ दिन पहले चारू ने आरोप ने लगाया था कि जब वह प्रेग्नेंट थीं, तब राजीव ने उन्हें धोखा दिया था. वह सुबह निकलते थे और सीधे देर रात आते थे. फिर राजीव के बैग से एक चीज मिलने से चारू का शक का यकीन में बदल गया.

हालांकि, इसके बाद राजीव ने भी चारू असोपा पर गंभीर आरोप लगाया. उन्होंने दावा किया की शादी के बाद भी चारू का एक्टर करण मेहरा के साथ अफेयर चल रहा था. दोनों ने रोमांटिक रील्स भी बनाई थी. राजीव ने यह भी दावा किया कि खुद चारू की मां ने उन्हें चारू और करण के अफेयर के बारे में बताया था. इन सबके बीच राजीव की बहन और एक्ट्रेस सुष्मिता की चुप्पी पर भी सवाल उठ रहे हैं.

चारू असोपा ने आरजे सिद्धार्थ कन्नन को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया है कि सुष्मिता सेन ने उन्हें हमेशा उनकी खुशी को प्राथमिकता देने के लिए कहा है. यह पूछे जाने पर कि क्या सुष्मिता ने उन्हें शादी के रिश्तों को सुधारने के लिए कहा. इस पर चारू ने कहा, “नहीं, उन्होंने ऐसा कभी नहीं कहा है. उन्होंने हमें इसे सुधारने के लिए कभी नहीं कहा है. उन्होंने हमेशा मुझे पहले दिन से ही अपनी खुशी को प्राथमिकता देने के लिए कहा है.”

चारू असोपा ने आगे कहा, “मेरे पेरेंट्स ने कहा है कि शादी को सही करनी चाहिए और हमें मतभेदों को सुलझाने की कोशिश करनी चाहिए. लेकिन दीदी (सुष्मिता सेन) ने कभी नहीं कहा. वो हमेशा कहती थीं कि अगर आप खुश नहीं हैं तो वो करें जिससे आपको खुशी मिले. मैंने उनसे कभी भी हस्तक्षेप करने के लिए कहने से ज्यादा परेशान नहीं किया, लेकिन वह परिवार है, उन्हें चीजों का पता चलना चाहिए।”

चारू असोपा ने आगे कहा, “मैं इन बातों को लेकर अपने ससुराल वालों को फोन भी नहीं करती या उन्हें बताती भी नहीं हूं क्योंकि वह काफी बुजुर्ग हैं और उन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं. मैंने कभी किसी को यह कहकर परेशान नहीं किया कि ‘मैं मुश्किल में हूं, कृपया मेरी मदद करें.’ जब भी मैंने दीदी से इस बारे में बात की, तो उन्होंने हमेशा मुझसे कहा, ‘अगर आप एक साथ खुश रह सकते हैं, तो साथ रहें लेकिन अगर आप खुश रहेंगे तो अलग हो जाइए.’

Tags: Charu asopa, Rajeev Sen, Sushmita sen



Source link

Related posts

Leave a Comment